CSVTU engineer

छत्तीसगढ़ के इस लडक़े ने बना दिया गजब का गैजेट, केंद्र और राज्य सरकार ने सराहा

रायपुर. लोहे और स्टील के बड़े-बड़े बैरीयर्स पर आपने स्टॉप, डेनजर और रोड इंडीकेटर जैसे कई मैसेज देखे ही होंगे। इन पर चिस्पा किए गए मैसेज वैसे तो रेडियम से लिखे होते हैं, लेकिन रात में कई बार इन्हें दूरी से देख पाना कठिन हो जाता है। इससे हादसों की संभावना भी बढ़ती है। इसी समस्या को समझकर छत्तीसगढ़ के युवा इंजीनियर विवेक सोनी ने ‘फोल्डेबल एलईडी बैरीयर’ तैयार किया है। यह बैरीयर लाइटों के जरिए बेहतर इंडीकेटर देने में मददगार है। इसे सीधे रास्ते पर 700 मीटर की दूरी से भी आसानी से देखा जा सकता है। खास बात यह भी है कि इन्हें एक जगह से दूसरी जगह लाने ले जाने के लिए अलग से ट्रांसपोर्टेशन की कोई जरूरत नहीं है। महज चार किलो वजन के यह बैरीयर फोल्ड करके आसानी से कैरी किए जा सकते हैं।

कैसे काम करता है बैरीयर

एलईडी बैरीयर की ऊंचाई 1 मीटर और लंबाई 2.5 मीटर है। इसे एल्युमिनीयम पाइप इस्तेमाल करके बनाया गया है। बैरीयर में सैकड़ों ब्लींक होने वाली सुपर एलईडी लाइटें लगाई गई है, जो लिथियम ऑयन बैटरी से चलती है। एक बार चार्ज करने पर यह आठ घंटे का पॉवर बैकअप देती है। इसे रूट इंडीकेटर्स की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है। बैरीयर को तीन तरह से फोल्ड कर सकते हैं, जिससे यह दाएं और बाएं एैरो बताने के साथ-साथ प्रतिबंधित इलाके को भी लाइटों की मदद से साफ दिखा सकती है। इनवेंटर इसे सौर ऊर्जा से चलाने की तैयारी में है।

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया से मिला पेटेंट

देश में यह अपनी तरह का पहला मॉडल है। इसे भारत सरकार ने पेटेंट किया है। छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद (सीजीकॉस्ट) ने इसका डेमोंसट्रेशन करने के बाद कोलकाता भेजा। जहां देश भर में सर्वे कराने के बाद एलईडी बैरीयर को पेटेंट का दर्जा दिया गया। इसे इजाद करने वाले इंजीनियर का कहना है कि मॉडल को पूरी तरह तैयार करने में ५ हजार रुपए खर्च हुए। ज्यादा तादाद व मैनुफैक्चरिंग की स्थिति में यह दो हजार रुपए तक तैयार किया जा सकता है।

कोहरे में ज्यादा मददगार

कोहरे की स्थिति में ड्राइवर लाइटों की रोशनी के आधार पर ड्राइविंग करते दिखाई देते हैं। ऐसे में ट्रैफिक पुलिस के हैवी बैरीयर्स और उन पर चस्पा रेडियम देख पाना मुश्किल होता है। जबकि एलईडी बैरीयर कोहरे में भी आसानी से रास्ता दिखाने में सक्षम है।

रात के समय यहां होगा इस्तेमाल

  • सडक़ पर खुदे गढ्डो की स्थिति बताने में
  • रूट बताने व डायवर्ट करने में
  • दुर्घटना की स्थिति में प्रतिबंधित एरिया बताने में
  • पार्किंग एरिया और शॉपिंग मॉल बेसमेंट में
  • सुरक्षा इंतजामों में इंडीकेटर के लिए
  • ट्रैफिक पुलिस, एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड के इस्तेमाल के लिए उपयोगी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*