CM Baghel,

कोरोना के साथ-साथ अब केंद्र के काले काननू के खिलाफ लड़ेगे जंग : सीएम बघेल

3 किसान विरोधी बिल लाई है केंद्र सरकार

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Baghel) ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा किसानों को लेकर लाए गए काले कानून केंद्र राज्य संबंधों और हमारे संविधान की संघ व्यवस्था पर हमला है। जिस तरीके से 3 किसान विरोधी बिल लाए गए हैं, वह सीधे सीधे किसानों पर हमला है। एक तरफ हम लोग करोना संक्रमण से लड़ रहे हैं वहीं दूसरी ओर अब किसान विरोधी काले कानून लाने वाली केंद्र सरकार के खिलाफ भी लड़ने की घड़ी आ गई है।

इस आंदोलन को किसानों तक सीमित ना रखते हुए आम आदमियों तक ले जाने की जरूरत है । जिस तरीक़े से आवश्यक वस्तु अधिनियम को खत्म करके जमाखोरी को बढ़ावा देने की छूट दी जा रही है,उससे महंगाई भी बढ़ेगी और आम आदमी भी प्रभावित होगा। जमाखोरी करने वालों के खिलाफ कार्यवाही के राज्य सरकार के अधिकारों पर भी अब हमला हो गया है। उपभोक्ताओं को भी अब जागरूक करने की आवश्यकता है। आवश्यक वस्तु अधिनियम में परिवर्तन की बात को लेकर भी अब हमें आम जनता के बीच जाने की जरूरत है। किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ आंदोलन की रणनीति बनाने के लिए छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस की कार्यकारिणी की वेब बैठक में सीएम बघेल ने यह बात कही।

बैठक में ये रहे मौजूद

बैठक में एआईसीसी प्रभारी पीएल पुनिया प्रभारी, सचिव डॉ चंदन यादव, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Baghel) मंत्रिमंडल के सदस्य गण, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम भी विशेष रूप से उपस्थित रहे। बैठक का उद्घाटन भाषण प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने दिया और बताया कि एआईसीसी के निर्देशों के अनुरूप आंदोलन की तैयारियों पर विचार करने के लिए यह बैठक बुलाई गई ।

पहली बैठक छत्तीसगढ़ के साथ

एआईसीसी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया ने अपने विस्तृत संबोधन में कहा कि एआईसीसी के निर्देशानुसार सभी राज्यों में प्रदेश कांग्रेस की कार्यकारिणी की बैठक होनी है।  छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में है जहां आज यह बैठक हो रही है। यह बैठक बहुत महत्वपूर्ण है। आज देश एक ऐसे दौर से गुजर रहा है, जब देश का लोकतंत्र और देश के किसान खतरे में है। बुधवार को आयोजित बैठक 21 सितंबर को एआईसीसी की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुरूप बुलाई गई है। पीएल पुनिया ने चरणबद्ध आंदोलन की सबको जानकारी दी।

इस तर होगा आंदोलन

कांग्रेस नेताओं (CM Baghel) से मिली जानकारी के अनुसार आंदोलन के क्रम में 24 सितंबर को पत्रकार वार्ता होगी। इस पत्रकारवातार में  आईसीसी के प्रभारी पी एल पुनिया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम उपस्थित रहेंगे। 26 को सभी कांग्रेस जन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में स्पीकर फॉर फार्मर की गतिविधि करेंगे। 28 तक लॉक डाउन होने के कारण 29 को राजभवन से राजभवन तक राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन जाकर राज्यपाल जी को देंगे। ज्ञापन सौंपन के सभी सांसद, सांसद प्रत्याशी, विधायक और विधायक प्रत्याशी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहेगें। 10 अक्टूबर को राजधानी रायपुर में किसान सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। 2 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच प्रदेश में घर-घर जाकर कांग्रेस जन इन 3 किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे।  

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*