Allegations, the patient was already dead, kept taking money after being told that Hitech Hospital was alive

आरोप, पहले ही मर चुका था मरीज, हाईटेक अस्पताल जिंदा बताकर लेता रहा पैसा

भिलाई . यहां के नेहरू नगर में शुरू हुआ हाईटेक अस्पताल (Hi tek hospital) अपने शुरुआती दौर में ही हंगामे और मानवाता को शर्माशार करने वाला आरोप लगा है। एक मरीज यहां भर्ती कराया गया था। उसके परिवारवालों ने आरोप लगाया है कि मृत्यु के बाद भी हाईटेक अस्पताल में मरीज को जीवित बताकर लाखों की उगाही की। वह मर चुका था, लेकिन तबीयत में सुधार होने का हवाला देकर कई दिनों तक वेंटीलेटर पर रखा।

ये भी पढ़े – डीजीपी का करीबी बताकर आरक्षक ने आरक्षक को ठगा

पैर में दर्द की तकलीफ

यह सब सिर्फ अस्पताल (Hi tek hospital) ने बिल बढ़ाने के लिए किया। अब परिवार ने स्वास्थ्य विभाग में शिकायत की बात कही है तो मामले की पूरी जांच हो सके। राजनांदगांव के रहने वाली सिराजुन निशा (62) पैर में दर्द की तकलीफ लेकर हाईटेक अस्पताल गई थी, जहां न्यूरोलॉजी से संबंधित डॉक्टर से सामान्य उपचार के बाद अपने घर चली गई। घर वापस जाने पर महिला की तबियत लगातार बिगडऩे लग गयी, जिसे दोबारा 13 मई को इलाज के लिए हाईटेक अस्पताल लाया गया। डॉक्टरों ने कह दिया कि ये आंत में इनफेक्शन की वजह से हुआ है।

ये भी पढ़े – माह-ए-रमजान : ईबादत में गुजरा महीना, आज चांद दिखा तो कल होगी ईद

ऑपरेशन कराने के लिए कहा

डॉक्टरों ने परिवार को इनका ऑपरेशन कराने के लिए कहा। मरीज को वेंटीलेटर पर डाल दिया गया। तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। मरीज से मुलाकात के दौरान परिवार के सदस्यों ने जब देखा कि शरीर से बदबू आ रही है तो इसकी जानकारी डॉक्टर्स को दी गई, लेकिन डॉक्टर्स ने इसे सामान्य बताया। (Hi tek hospital) इसके बाद जब मरीज को दूसरे अस्पताल ले जाया गया तो वहीं उसे मृत घोषित कर दिया गया। यहीं हंगामा करते हुए परिवारजन ने आरोप लगाया कि मौत के बाद भी हाईटेक अस्पताल खेल करता रहा और उनसे उगाही की।

ये भी पढ़े – मजदूर को सांस लेने में हुई तकलीफ, सर्दी-खांसी थी, सिम्स में मौत, कोरोना तो नहीं…

इधर, अस्पताल ने यह कहा

हाईटेक अस्पताल ने भी मामले में अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि परिजनों को पहले ही बता दिया गया था कि मरीज अभी नाजुक हालत में है। जब मरीज को जिला अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा था, तब अस्पताल ने अपने दो इमरजेंसी स्टाफ एंबुलेंस में दिए थे, ताकि मरीज सही सलामत पहुंचे।

देश-प्रदेश की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*