CDS rawat,

लद्दाख में हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहे तीनों सेना के जवान: सीडीएस रावत

दिल्ली. लद्दाख बार्डर में तैनात जवानों के लिए एक दीया जलाने की अपील प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। पीएम की अपील के बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने लद्दाख में तैनात होने वाले तीनों सेना के जवानों को हर परिस्थिति का सामने करने का संदेश दिया है।

सीडीएस रावत ने नेवी के समुद्री को कमांडों को पूर्वी लद्दाख में तैनात करने के लिए कहा है। यहां भारतीय सेना की गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स में पैंगोंग टागन झील के दोनों किनारे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। भारतीय विशेष बलों के साथ मारकोस को तैनात किया जाएगा, जो ध्रुवीय रेगिस्तान में भी भारी बर्फबारी और कड़ाके की ठंड का सामना कर सके।

कपड़े और मास्क की प्रतिक्षा कर रहे जवान

ध्रुवीय रेगिस्तान में तैनात सैनिक कड़ाके की ठंड से निपटने के लिए मास्क और कपड़ों का इंतजार कर रहे है। सेना के अधिकारियों की मानें तो मास्क और कपड़े नवंबर माह के पहले हफ्ते में अमेरिका सेना से आने की उम्मीद है। भारतीय सेना एलएसी पर लंबे समय तक मोर्चा सम्हालने के लिए तैयार है। सेना देश की एक इंच जमीन छोडऩे के मूड में नहीं है।

हिंद महासागर में चीनी युद्धपोत की निगरानी

सीडीएस रावत ने भारतीय नौसेना को हिंद महासागर में तैनात चीनी युद्धपोत गतिविधि की निगरानी करने के लिए कहा है। अंडमान और निकोबार द्वीप के आस पास चीनी सेना के युद्धपोत मंडरा रहे है। सीडीएस रावत ने कहा, कि लक्षद्वीप और एएनसी के भारतीय द्वीप क्षेत्र राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा की कुंजी हैं, क्योंकि वे फारस की खाड़ी से लेकर मलक्का जलडमरूमध्य तक – दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण शिपिंग लेन पर हावी हैं।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*