5 women hostage for not getting the rent

किराया न मिला तो 5 युवतियों को ही बंधक बना लिया, न ही घर जाने की दी इजाजत

रायपुर. एक ओर जहां सरकार ने किराएदारों को राहत देने इस दौर में मकान मालिकों से किराए के लिए दबाव न डालने के निर्देश दिए हैं वहीं रोज कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं कि मानवता भी शर्मसार होने पर अमादा है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है मारवाही-पेंड्रा जिले में जहां किराया न मिलने पर मकान मालिक ने 5 युवतियों को बंधक बना लिया।

कोरोना वायरस coronavirus covid-19 संक्रमण से बचने जहां सरकार ने लॉकडाउन घोषित कर लोगों को जहां हैं वहीं रहने की सलाह दी है वहीं कुछ किराएदार के लिए यह महज एक फलसफा बनकर ही रह जा रहा है। देश में कई मामले सामने आ चुके हैं जिसमें किराए के लिए मकान मालिक दबाव डाल रहे हैं। पेंड्रा-मरवाही जिले के सेमरा गांव में भी कुछ इसी तरह के मामले की जानकारी मिल रही है।

वैज्ञानिकों का दावा… ऐसी एंटीबॉडी बनाई जिससे कोरोना बढऩे से रोका जा सकेगा

एक मकान मालिक ने 5 लड़कियों को घर में बंधक बना लिया, उनके सामानों को जब्त कर उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया। सभी लड़कियां एक दिन भूखी प्यासी घर में कैद भी रही लेकिन मकान मालिक का दिल नहीं पसीजा। मामले में प्रशासन को हस्तक्षेप करना पड़ा और पुलिस टीम व तहसीलदार की मौजूदगी में सभी युवतियों को छुड़ाया गया।

6 महीने के लिए मिल जाएगा ईएमआई से छुटकारा, रिजर्व बैंक करेगा घोषणा

सभी युवतियां अब प्रशासन की निगरानी में हैं। हालांकि अभी तक मकान मालिक पर किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई है। मिली जानकारी के मुताबिक पांचों लड़कियां गौरेला के ही निजी कंपनी में काम करती हैं और किराए के मकान में रह रहीं थी। लॉकडाउन के कारण काम बंद होने के के चलते अन्य युवतियां प्रशासन की मदद से अपने अपने घर जा चुकी थी।

पैसे नहीं दिए तो मासूम की तकिया से मुंह दबाकर कर दी हत्या, आरोपी सगा ताऊ

पांचों युवतियां भी घर जाना चाहती थी लेकिन जैसे ही इसकी सूचना मकान मालिक को लगी तो वह किराया लेने घर पहुंचा। वह लगातार युवतियों से किराए के लिए दबाव बना रहा था। लेकिन काम बंद होने के चलते युवतियों के पास पैसे नहीं थे। इसी बीच सोमवार को किराया नहीं देने पर मकान मालिक ने युवतियों के सामान जब्त कर लिए। साथ ही उन्हें कमरे में बंद कर दिया।

सामान बंद होने के चलते युवितयों एक दिन तक भूखी प्यारी कमरे में बैठी रहीं। मंगलवार को युवतियों ने इसकी सूचना फोन पर ग्राम पंचायत की सरपंच गजमती भानु को दी जिसके बाद सरपंच ने प्रशासनिक हस्तक्षेप की गुहार लगाई फिर सभी लड़कियों को छुड़ाया गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*