Laborers of chhattisgarh

lockdown: हैदराबाद में फंसे छत्तीसगढ़ के 20 मजदूर, प्रदेश सरकार से मांगी मदद

रायपुर. रोजगार के जुगाड़ में छत्तीसगढ़ से हैदराबाद पहुंचे 20 मजदूर लॉकडाउन (lockdown) की वजह से फंस गए है। मजदूरों ने छत्तीसगढ़ सरकार से मदद मांगी है। हैदरबाद में फंसे मजदूर बेमेतरा और बलौदा बाजार के बताए जा रहे है। हैदराबाद में फंसे मजदूरों की मदद करने की अपील पीड़ितों के परिजनों ने भी राज्य सरकार से की है।

ग्राम अछोली के जनप्रतिनिधियों से मिली जानकारी के अनुसार बेमतरा और बलौदा बाजार में रहने वाले अजय बंजारे, कैलाश बांधे, जनत नंदनी बंजारे समेत 20 लोग रोजगार की तलाश में हैदरबाद गए हुए थे। कोरोना संक्रमण के कारण देश में लॉकडाउन (lockdown) हुआ तो उनका काम बंद हो गया। ठेकेदार ने कुछ दिनों तक राशन दिया, लेकिन दो दिन पहले उसने भी हाथ खड़े कर दिए। हैदराबाद में फंसे मजदूरों ने परिजनों को फोन के माध्यम से जानकारी देकर अपना पता बताए है। प्रदेश के सभी मजदूर जहां रुके है, उस जगह का नाम थाना कृष्णा मंदिर के पास स्थित ढाबा चौक बताया जा रहा है।

ये लोग फंसे है हैदराबाद में

लॉकडाउन (lockdown) के दौरान फंसने वाले लोगों का नाम अजय बंजारे, कैलाश बांधे, जनक नंदनी बंजारे, ज्योति बंजारे, बीरेंद्र बंजारे, सीमा बांधे, प्रेम बांधे, देवचरण कुर्रे, हरि कुर्रे, बुधारी कुर्रे, सुशीला कुर्रे, हेमलता ध्रुव, हिमांशु ध्रुव, भागवत बांधे, सोनू धृतलहरे, सन्नी सोनवानी, तारिणी धृतलहरे, रामकली सोनवानी, लक्ष्मी और प्रमोद भास्कर बताया जा रहा है।

गृहमंत्री की पहल पर लखनऊ में फंसे लोग को मिली मदद

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू की की सक्रियता के चलते लाॅकडाउन (lockdown) के दौरान लखनऊ में फंसे छत्तीसगढ़ के 100 श्रमिकों की खाने-पीने की व्यवस्था कराई गई है। मीडिया के माध्यम से सूचना मिलने पर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने मुख्य सचिव आरपी मंडल से मजदूरों को खाना खिलाने और दवाई मुहैय्या कराने का निर्देश जारी किया था। गृहमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव ने श्रमिक बंधुओं को सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई और जानकारी गृहमंत्री को दी। गृहमंत्री ने श्रमिकों से फोन में बात की और हर स्थिती में सरकार उनके साथ है, इस बात को आश्वास्त किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*