वृद्ध और दिव्यांगों के लिए लॉकडाउन में संजीवनी बना नगद संगवारी

वृद्ध और दिव्यांगों के लिए लॉकडाउन में संजीवनी बना नगद संगवारी

चार हजार हितग्राहियों को पेंशन वितरित

रायपुर। देश में लॉकडाउन (Lockdown) से उपजे हालात में जिला के नगद संगवारी लोगों के लिए मददगार साबित हो रहा है। संकट के समय में ग्रामीण इलाकों में रहने वाले खासकर वृद्धजन, दिव्यांगों और जरूरतमंद लोगों को बैंक में पहुंचने और पैसा निकालने म दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी हालत में जरूरतमंद लोगों के लिए कार्यरत 215 नगद संगवारी देवदूत से कम नहीं है।

पेंशनधारियों को घर-घर जाकर दे रहे पेंशन

अलग-अलग ग्रामों में पेंशनभोगियों के घर-घर जाकर आधार नंबर पर आधारित भुगतान प्रणाली के तहत उनकी पेंशन नगद रूप से दे रहे हैं। अब तक वे चार हजार से अधिक हितग्राहियों को नगद पेंशन का भुगतान कर चुके हैं। इसके अलावा जनधन खाताधारकों और मनरेगा मजदूरी का भी भुगतान कर रहे हैं।

बैंकों में लगने वाली लंबी कतार में कमी

इस प्रणाली से जहां एक ओर लॉकडाउन (Lockdown) का पालन हो रहा है। वहीं दूसरी ओर बैंकों में लंबी कतारों में कमी हो रही है। वहीं ग्रामीणों को भी राशि भुगतान कर रहे हैं। साथ ही फिजिकल डिस्टेंस, स्वच्छता का महत्व और कोरोना से सावधानी व सुरक्षा के उपाय की जानकारी भी दे रहे हैं।

यह योजना किसी वरदान से कम नहीं

सामाजिक सहायता के अंतर्गत पेंशन योजनाओं के साथ अन्य विभागों के तरफ से भी हितग्राहियों के खाते में सहायता राशि जमा किया गया है। लॉकडाउन (Lockdown) के चलते बैंकों तक जाना कठिन था। ऐसे समय में जिला प्रशासन की ओर से नगद संगवारी के तरफ से घर-घर जाकर धनराशि का वितरण सुनिश्चित किया जाना प्रशासनिक संवेदनशीलता का उदाहरण है। वहीं बलौदाबाजार जिला में संचालित यह योजना किसी वरदान से कम नहीं हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*